Wetting Agent Uses Agriculture [Silicon Sticker, Spreader] | Chipko Definition Meaning Hindi

735

Wetting Agent Uses Agriculture Silicon based Sticker Spreader Chipko price सिलिकॉन खत meaning sticker, dawai pesticide dose best super cool कृषि में सिलिकॉन का उपयोग

हम लगातार अपनी फसलों में हो रही बीमारी व फसलों को कीड़ों से बचाने के लिए अपनी फसलों पर दवाई का उपयोग करते हैं लेकिन कई बार हमारी dawai व्यर्थ चली जाती है या कई बार महंगी दवाई डालने के बाद भी दवाई काम नहीं करती।

आज के समय में लगातार खेतों में दवाई Insecticide pesticide का खर्चा बढ़ता जा रहा है और कई बार तो बीमारी कंट्रोल ही नहीं होती। और बस हम दवाई डालते जाते हैं ।

कई बार मौसम की वजह से पौधों में छिड़काव की गई dawai बारिश के कारण धूल जाता है।

तो ऐसे में plant में दवाई Absorb नहीं हो पाता जिस कारण दवाई काम नहीं करती, इसी कारण हम जब भी महंगी दवाइयां फसलों में कीटनाशक या अन्य दवाई छिड़काव करते हैं उसमें हमको चिपको का उपयोग करना चाहिए ।

चिपको को अंग्रेजी में Sticker कहा जाता है लेकिन चिपको भी बाजार में अलग-अलग तरह के उपलब्ध है तो चलिए अब डिटेल में जानने का प्रयास करते हैं कि दवाई में चिपको डालने के क्या फायदे हैं और हमें कौन सा chipko उपयोग करना चाहिए ।

चिपको दवाई क्या है (Wetting agent, Sticker definition meaning)

Wetting agent खेती में उपयोग होने वाली दवाई के साथ मिक्स करने वाला एक स्प्रेडर स्टिकर होता है जो किसी भी dawai को पौधों में चिपकाने का काम करता है या दवाई को पौधों में फैलाने का काम करता है।

इसको अंग्रेजी में Wetting & Sticking Agent कहते हैं और कई क्षेत्रों में सामान्य भाषा में इसको स्टीकर (Sticker) भी कहा जाता है ।

जिसको खेती में उपयोग होने वाली हर तरह की दवाई के साथ उपयोग किया जा सकता है और कई वैज्ञानिक बताते हैं कि चिपको डालने से यह दवाई का असर भी बढ़ा देता है।

दवाई में Sticker के उपयोग से chemical को पौधों में लंबे समय तक रोक कर रखता है जिस से दवाई अच्छे से काम करती है जिसमें सामान्य chipko औरsilicon based spreader बाजार में उपलब्ध है।

सामान्य चिपको और सिलिकॉन चिपको (Sticker vs silicon based Sticker, spreader)

chipko मार्केट में इनको दो तरह से उपलब्ध है एक तो सामान्य चिपको और दूसरा सिलिकॉन चिपको इन दोनों Wetting agent में सबसे अच्छा रिजल्ट silicon based Sticker में ही देखने को मिलता है और दोनों के कीमत में ज्यादा अंतर भी नहीं पड़ता।

सामान्य चिपको (chipko Wetting agent)

मार्केट में सबसे ज्यादा सामान्य चिपको ही बिकता है क्योंकि यह लीटर में silcon chipko से बहुत सस्ती पड़ती है.

और दुकान वाले भी इसको किसानों को देने की कोशिश में रहते हैं क्योंकि इसमें ज्यादा कमाई होती है तो इस तरह से देखें तो simple chipko ₹250 से ₹300 लीटर में आसानी से उपलब्ध हो जाता है।

जिसकी Dose 125ml प्रति एकड़ होती है तो इस हिसाब से इसका खर्च देखें तो 35 से ₹40 प्रति एकड़ खर्चा आता है लेकिन रिजल्ट बहुत कम मिलता है लगभग 25% के बराबर।

सिलिकॉन चिपको (Silicon chipko Surfactant)

अगर हम खेतों में महंगी दवाई डाल ही रहे हैं तो हमें Silicon Sticker ही use करना चाहिए और इसके बारे में दुकान वाले उतना ज्यादा हमको जानकारी नहीं देते।

क्योंकि इसकी पर लीटर कीमत ज्यादा होती है लेकिन डालने की मात्रा कम होती है तो उस हिसाब से देखें तो silicon Wetting agent ₹1500 से ₹1800 प्रति लीटर के हिसाब से बाजार में उपलब्ध है ।

और इसकी मात्रा 35 ml प्रति एकड़ के हिसाब से होती है तो प्रति एकड़ खर्च का हिसाब लगाएं तो 45 से ₹50 प्रति एकड़ खर्च आता है और इसका रिजल्ट 100% मिलता है तो दोनों में अंतर देखें तो कीमत का उतना ज्यादा फर्क नहीं है इसीलिए हमको सिलिकॉन चिपको ही उपयोग करना चाहिए

स्टिकर किसके साथ मिक्स करें

chipko एक ऐसा स्टिकर है जिसको हम फसलों में उपयोग होने वाली हर तरह की कीटनाशक दवाई, खरपतवार नाशक, फफूंद नाशक के साथ मिक्स कर सकते हैं क्योंकि यह एक वे Wetting agent का काम करता है और इसका काम ही चिपकाने का है।

चिपको को किसी भी तरह के दवाई में डालने से उसके प्रभाव में किसी भी तरह की कमी नहीं होती इसीलिए हम खेती में उपयोग होने वाली सभी तरह की दवाई में इसका उपयोग कर सकते हैं।

चिपको दवाई की विशेषता (Wetting Agent Uses Agriculture)

Sticker की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह दवाई को पानी की बूंदों के साथ पौधों के पूरे पत्तों में फैला देता है जिससे दवाई पौधों के सारे हिस्सों में फैल जाता है।

Wetting agent की और सबसे बड़ी विशेषता यह है कि अगर हम बारिश के मौसम में दवाई का छिड़काव करते हैं और किसी कारणवश दवाई डालने के बाद बारिश हो जाती है तो दवाई धुलती नहीं चिपकी रहती है ।

अगर दवाई छिड़काव के 1 से 2 घंटे के दौरान बारिश नहीं होती तो दवाई का असर पौधों में दिखने लगता है।

अगर पौधों में दवाई आधा घंटा भी रुक जाता है तो पौधों में इसका असर दिखना चालू हो जाता है लेकिन अगर हमको पूरा पूरा दवाई का असर देखना है तो कम से कम 8 से 10 घंटा बारिश नहीं होना चाहिए।

तभी dawa का असर सही से देखने को मिलता है और अगर हम चिपको साथ में डाले होते हैं और धूल जाता है तो dawa थोड़ा बहुत काम करता है।

चिपको की और सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह पौधों के बाहरी हिस्सों में दवा को फैला देता है उसी तरह पौधों के अंदर के हिस्सों में भी दवाई को फैला देता है।

चिपको के उपयोग और फायदे (chipko uses, fayde)

Chipko का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि या महंगी दवाई के मुकाबले प्रति एकड़ का खर्चा काफी कम बैठता है जिसे कोई भी किसान आसानी से उपयोग कर सकता है॰

Sticker के उपयोग से और सबसे बड़े फायदे यह होता हैं कि हम जो भी दवाई फसलों में डालते हैं वह लंबे समय तक पौधों में ठहरता है जिससे दवाई का असर ज्यादा देखने को मिलता है।

स्प्रेडर स्टिकर का और सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि इसके उपयोग से हम जिस भी स्प्रेयर या पात्र में दवाई का छिड़काव करते हैं वह पूरी तरह से साफ हो जाता है जैसे दवाई छिड़काव वाला स्प्रेयर और पाइप।

चिपको का और benefit यह होता है कि यह पौधों में दवा को तो फैलाता हि है साथ में कई बार ओस की बूंद गिरने लगती है इसके कारण भी दवाई धूल जाती है तो अगर हम चिपको का उपयोग किए हैं तो दवाई पौधों से नहीं धुलती वह पौधों में ही रुकी रहती है।

Wetting agent का औरbenefits यह होता है कि अगर हम दवाई स्प्रे द्वारा डालते हैं तो स्प्रे का परिणाम बढ़ जाता है मतलब दवाई का अच्छा असर देखने को मिलता हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

तो किसान साथियों हम इतनी महंगी-महंगी दवाई का उपयोग अपनी फसलों में करते हैं और मात्र 40 से ₹50 प्रति एकड़ की खर्च को डरेंगे तो हमें और ज्यादा नुकसान हो सकता है।  

क्योंकि मौसम का कोई ठिकाना नहीं है कभी भी बारिश हो सकती है और कई कारण से पौधों में दवाई सही से नहीं ठहरेगा तो हमें नुकसान हो सकता है इसीलिए हम जब भी खेतों में दवाई डाले तो दवाई के चिपको का प्रयोग जरूर करना चाहिए।

Other Post:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here